NPS

पीएफआरडीए (पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण) द्वारा विनियमित एनपीएस (राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली) भारत में एक स्थायी और कुशल परिभाषित पेंशन प्रणाली के विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। इसके निम्नलिखित व्यापक उद्देश्य हैं:

• वृद्धावस्था में आय प्रदान करना

• लम्बी अवधि में शेयर मार्किट से उचित एवं सुरक्षित लाभ देना

• सभी नागरिकों को बुजुर्ग अवस्था में सुरक्षा कवच प्रदान करना

 

राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली

एनपीएस आपको सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन के लिए बचत करने में मदद करता है | उसकी महत्वपूर्ण विशेषतायें इस प्रकार हैं

• आपको एक अद्वितीय स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या (पीआरएएन) आवंटित किया जायेगा। अगर आप अपना निवास बदलते हैं तो भी आपको नया खाता खोलने की आवश्यकता नहीं होगी | आप भारत में किसी भी स्थान से इस खाते को संचालित करने में सक्षम होंगे |

• पीआरएएन दो व्यक्तिगत खातों तक पहुँच प्रदान करेगा।

प्रथम स्तर - पेंशन खाता: आप इस गैर निकासी खाते में सेवानिवृत्ति के लिए अपनी बचत का योगदान कर सकते हैं। योगदान की आंशिक वापसी पर विचार जारी है , लेकिन अभी तक इसकी अनुमति नहीं है।

द्वितीय स्तर- बचत खाता: यह सिर्फ एक स्वैच्छिक बचत सुविधा है | यदि आप चाहें, तो आप इस खाते से अपनी बचत को निकालने के लिए स्वतंत्र हैं। खाते को सक्रिय करने अथवा रखरखाव के लिए कोई अतिरिक्त सीआरए (केंद्रीय अभिलेखपाल एजेंसी) शुल्क नहीं है ।

 

एनपीएस के तहत, आपके पैसे का निवेश कहाँ हो यह खुद आपकी पसंद पर निर्भर करेगा |

एनपीएस आपको चुनने के लिए एक कोष प्रबंधकों की संख्या () और तीन निवेश विकल्प प्रदान करता है। अगर आप कोई विकल्प नहीं चुनते तो आपका पैसा स्वपसंद विकल्प में, आ[पकी उम्र के हिसाब से विभिन्न योजनाओं में निवेशित हो जायेगा |

आप पीएफआरडीए द्वारा नियुक्त पीओपी नामक सेवा प्रदाताओं की अधिकृत शाखाओं के साथ एक एनपीएस खाता खोल सकते हैं। आपको अपनी सुविधानुसार POP कि एक शाखा से दूसरी में स्थानंतरत होने का विकल्प प्राप्त है |

एनपीएस के तहत कर लाभ समय-समय पर यथा संशोधित आयकर अधिनियम, 1961 के प्रावधानों के अनुसार मान्य होंगे।

एनपीएस से अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए आपको अपने खाते के बारे में कई महत्वपूर्ण निर्णय लेने की जरूरत है।इस पुस्तिका से आपको उसमे मदद मिलेगी।

 

  • उपस्थिति केंद्र(पीओपी)

उपस्थिति केंद्र(पीओपी) एनपीएस वास्तुकला के साथ एनपीएस ग्राहक के संवाद का पहला केंद्र है |उपस्थिति केंद्र की अधिकृत शाखाएं जिन्हें उपस्थिति सेवा प्रदाता केंद्र(पॉप-एसपीएस) कहते हैं, वह एनपीएस ग्राहकों के लिए संग्रह एवं अनेक अन्य प्रकार की ग्राहक सेवा प्रदान करेगा

  • पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए)।

भारत सरकार द्वारा गठित एक स्वायत्त निकाय जो की भारत में पेंशन बाजार को विनियमित एवं विकसित करेगा |

  • केन्द्रीय अभिलेख संरक्षण एजेंसी (सीआरए)

एनपीएस के सभी ग्राहकों के अभिलेख संरक्षण, प्रशासन और ग्राहक सेवा कार्य एनएसडीएल ई-शासन इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड द्वारा नियंत्रित किया जायेगा जो की एनपीएस के लिए केन्द्रीय अभिलेख संरक्षण एजेंसी (सीआरए) का काम करेगा |

  • पेंशन फंड (PFS) / पेंशन फंड मैनेजर (PFMs)

पीएफआरडीए द्वारा नियुक्त पेंशन फंड (PFS) एनपीएस के तहत आपकी सेवानिवृत्ति बचत का प्रबंधन करेगा।

  • ट्रस्टी बैंक

एनपीएस के तहत नियुक्त ट्रस्टी बैंक एनपीएस प्रणाली के अंतर्गत विभिन्न संस्थाओं जैसे कि PFM, ASP, सदस्य, आदि के बीच में फंड स्थानांतरण की सुविधा प्रदान करेगा। एक्सिस बैंक ट्रस्टी बैंक के रूप में नियुक्त किया गया है।

  • वार्षिक सेवा प्रदाता (ASP)

एनपीएस से बाहर निकलने के बाद आप के लिए एक नियमित रूप से मासिक पेंशन देने के लिए ASP जिम्मेदार होगा।

  • एनपीएस ट्रस्ट

एनपीएस ट्रस्ट की स्थापना लाभार्थियों (सदस्य) के हित में एनपीएस के तहत संपत्ति और धन की देखभाल करने के लिए की गई है।

 

 

शुरुआत कैसे करें

यदि आप एक भारत का नागरिक है और कम से कम 18 साल के हैं, तो आप किसी भी समय एनपीएस में पंजीकरण कर सकते हैं हालांकि उम्र के 60 साल के बाद अनुमति नहीं है।

पैसे के चक्रवृद्धि बढ़त का लाभ लेने के लिए जल्दी से जल्दी शुरुआत करनी चाहिए |जितनी जल्दी शुरुआत करोगे, उतनी ही पेंशन राशि अधिक होगी |

एनपीएस में पंजीकरण करने के लिए, अपनी पसंद के (POP-SP ) के पास रजिस्ट्रेशन फॉर्म (यूओएस -एस 1) जमा करें। फार्म (POP-SP ) पर उपलब्ध है या एनएसडीएल वेबसाइट www.npscra.nsdl.co.in और पीएफआरडीए वेब साइट (www.pfrda.org.in) से डाउनलोड किया जा सकता है।

खाता खुलने के बाद सीआरए आपका स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या (पीआरएएन) और आपके खाते से संबंधित अन्य विवरण युक्त "अभिवादन किट" भेजेगा। आपका 'प्रान' आपके खाते की पहचान का प्राथमिक साधन होगा। "अभिवादन किट" के बाद आपको एक इंटरनेट का पासवर्ड (आईपिन) और एक टेलीफोन पासवर्ड (TPIN) की एक चिट्ठी प्राप्त होगी।

आईपिन सीआरए वेबसाइट (www.cra-nsdl.com) पर अपने खाते का उपयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आईपिन ऑनलाइन OTP का प्रयोग करके बदला जा सकता है।

TPIN टोल फ्री हेल्पलाइन (1-800-222080) के माध्यम उपयोग किया जा सकता है | इसके माध्यम से ना सिर्फ आप अपने खाते का उपयोग कर सकते है बल्कि आईवीआर सेवा से आप अपने खाते का विवरण और TPIN अपनी पंजीकृत ईमेल आईडी पर मांगा सकते हैं |

इसके अलावा, सीआरए आपका खाता खुलने पर, अभिवादन किट के प्रेषण, वितरण और प्रत्येक योगदान के निवेशित होने पर आपको एसएमएस और ईमेल भेजेगा| सीआरए एसएमएस और ईमेल अलर्ट निशुल्क है।

आपको POP -SP में खाता खोलने के लिए आवेदन पत्र के साथ अपना पहला योगदान करना आवश्यक हैं। आप निम्न शर्तों के अधीन योगदान कर सकते हैं |

प्रति योगदान न्यूनतम राशि - 500

प्रति वर्ष न्यूनतम अंशदान - 6000

योगदान की न्यूनतम संख्या - एक प्रत्येक वित्तीय वर्ष

न्यूनतम एक योगदान प्रति वर्ष के अलावा आप अपनी सुविधा के अनुसार वर्ष भर में योगदान की आवृत्ति पर फैसला कर सकते है।

 

एनपीएस में निवेश

विकल्प की शक्ति

एनपीएस आपको खाते में निवेश करने के लिए दो दृष्टिकोण प्रदान करता है।

  • सक्रिय पसंद - व्यक्तिगत फंड {इक्विटी (ई), कॉरपोरेट बॉन्ड (सी) और सरकारी प्रतिभूतियां (जी) परिसंपत्ति वर्ग}
  • स्व पसंद - जीवनचक्र फंड

एनपीएस आपको अपने पेंशन फंड का प्रबंधन करने के लिए निम्न संस्थाओं में से किसी एक को चुनने कि अनुमति देता है

• एचडीएफसी पेंशन मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड

• आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल पेंशन फंड्स मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड

• कोटक महिंद्रा पेंशन फंड लिमिटेड

• एलआईसी पेंशन फंड लिमिटेड

• रिलायंस कैपिटल पेंशन फंड लिमिटेड

• एसबीआई पेंशन फंड प्राइवेट लिमिटेड

• यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्यूशंस लिमिटेड

 

सक्रिय पसंद - व्यक्तिगत फंड

आप सक्रिय रूप से अपने एनपीएस पेंशन के धन के लिए इन तीन निवेश विकल्पों में से एक चुन सकते हैं

ई - "उच्च वापसी, उच्च जोखिम" - मुख्य रूप से शेयर बाजार कि प्रतिभूतियों में निवेश

सी - "मध्यम वापसी, मध्यम जोखिम" - मुख्य रूप से निश्चित कि प्रतिभूतियों में निवेश

जी - "कम लाभ, कम जोखिम" - विशुद्ध रूप से फिक्स्ड इनकम प्रतिभूतियों में निवेश

आप शेयर (एसेट क्लास ई) में अधिकतम 50% , सी या जी परिसंपत्ति वर्गों में अपने पूरे पेंशन धन का निवेश कर सकते हैं।

आप ई, सी और जी परिसंपत्ति वर्गों में पीएफआरडीए द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार अपना पेंशन धन वितरित कर सकते हैं।

अगर आप सक्रिय निवेश का विकल्प चुनते हैं तो आपको अनिवार्य रूप से पीएफआरडीए द्वारा नियुक्त पेंशन फंड में से अपनी पसंद का संकेत करना आवश्यक होगा |

एक सक्रिय विकल्प चुनते समय ध्यान रखें आपका निवेश आवंटन आपके पेंशन धन की वृद्धि को प्रभावित करने वाला एक महत्वपूर्ण कारक है | अगर आप इस दृष्टिकोण को पसंद करते हैं, तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें

• जोखिम और वापसी दोनों पर विचार करें। ई परिसंपत्ति वर्ग जी परिसंपत्ति वर्ग की तुलना में अधिक संभावित रिटर्न दे सकता है, लेकिन इस निवेश में घाटे का जोखिम रहता है। जी परिसंपत्ति वर्ग में पूरी तरह से निवेश आपको भले ही उच्च रिटर्न न दे, लेकिन यह एक सुरक्षित विकल्प हो सकता है।

• आप अपने खाते में विविधता के द्वारा अपने समग्र जोखिम को कम कर सकते हैं। तीन अलग-अलग परिसंपत्ति वर्ग आपको निवेश के विकल्प की एक विस्तृत श्रृंखला प्रस्तुत करते हैं | एक टोकरी में अपने सभी अंडे न रखें |

• आप कितना जोखिम उठा सकते हैं यह आपके निवेश की समय क्षितिज पर निर्भर करता है। आपके पास धन निकासी से पहले जितना ज़्यादा वक़्त है, आप उतना ही अधिक जोखिम उठा सकते हैं   (क्यूंकि प्रारंभिक घाटे की बाद में लाभ से भरपाई की जा सकती है |)

• समय समय पर अपने निवेश विकल्पों की समीक्षा करें। आपके द्वारा चुना गया मिश्रण अभी भी आपकी स्थिति के लिए उपयुक्त है यह सुनिश्चित करने के लिए अपने खाते की शेष राशि के वितरण की जाँच करें। यदि नहीं, तो आप अपने खाते को पुनः संतुलित करें |

नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) एक नियमित आधार पर जारी करी जाती है जिससे कि निवेशक सूचित निर्णय लेने के लिए सक्षम हों |

 

स्व पसंद - जीवनचक्र फंड

जिन लोागों को निवेश का प्रबंधन करने के लिए आवश्यक ज्ञान नहीं है उन लोगों के भाग लेने के लिए एनपीएस एक आसान विकल्प प्रदान करता है।

आप किसी भी चुनाव के लिए तैयार नहीं / असमर्थ हैं तो आपके धन को स्व पसंद विकल्प के अनुसार निवेश किया जाएगा।

हालांकि, आपको अपनी पसंद के PFM का संकेत करना आवश्यक होगा। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आपका फार्म POP -SP द्वारा स्वीकार नहीं किया जाएगा।

इस विकल्प में निवेश एक जीवन-चक्र फंड में किया जाएगा। इसमे,तीनों परिसंपत्ति वर्गों में निवेश का प्रतिशत एक पूर्व निर्धारित पोर्टफोलियो द्वारा निर्धारित किया जाएगा। 18 वर्ष की सबसे कम उम्र में, ऑटो विकल्प "ई " क्लास में पेंशन धन का 50% "सी" क्लास में 30% और "जी" कक्षा में 20% का निवेश होगा ।

प्रतिभागी के 36 साल की उम्र पर पहुंचने तक निवेश का ये अनुपात सभी योगदान के लिए उतना ही रहेगा, तदोपरांत "ई" और "सी" परिसंपत्ति वर्ग के वजन में सालाना कमी होगी और "जी" वर्ग के वजन में सालाना वृद्धि होगी, जब तक 55 वर्ष कि उम्र तक पहुँचते पहुँचते "ई" और "सी" में 10% और "जी" वर्ग में 80% नहीं हो जाता |

 

जीवनचक्र फंड के लिए टेबल

आयु

परिसंपत्ति वर्ग ई

परिसंपत्ति वर्ग सी

परिसंपत्ति वर्ग जी

35 वर्ष तक

50%

30%

20%

36 वर्ष

48%

29%

23%

37 वर्ष

46%

28%

26%

38 वर्ष

44%

27%

29%

39 वर्ष

42%

26%

32%

40 वर्ष

40%

25%

35%

41 वर्ष

38%

24%

38%

42 वर्ष

36%

23%

41%

43 वर्ष

34%

22%

44%

44 वर्ष

32%

21%

47%

45 वर्ष

30%

20%

50%

46 वर्ष

28%

19%

53%

47 वर्ष

26%

18%

56%

48 वर्ष

24%

17%

59%

49 वर्ष

22%

16%

62%

50 वर्ष

20%

15%

65%

51 वर्ष

18%

14%

68%

52 वर्ष

16%

13%

71%

53 वर्ष

14%

12%

74%

54 वर्ष

12%

11%

77%

55 वर्ष और उससे अधिक

10%

10%

80%

न तो सक्रिय विकल्प और न ही स्व-पसंद विकल्प आश्वासित आय प्रदान करता है।

आप एक विकल्प (PFMs और निवेश दृष्टिकोण) से दूसरे में बदल सकते हैं, लेकिन इस तरह का परिवर्तन एक साल में केवल एक बार किया जा सकता है।

 

द्वितीय श्रेणी के खाते की मुख्य विशेषताएं।

  • द्वितीय श्रेणी में खाता खोलने और वार्षिक रखरखाव के लिए कोई अतिरिक्त सीआरए शुल्क नहीं है । इस श्रेणी में प्रत्येक लेन-देन के लिए एक मामूली शुल्क लागू होगा |
  • निकासी की असीमित संख्या, केवल मापदंड के रूप में 31 मार्च ,यानी वित्तीय वर्ष के अंत में 2000 रुपये की न्यूनतम शेष राशि आवश्यक।
  • इस योजना में योजना वरीयता, PFM और नामांकन की अलग सुविधा।
  • प्रथम श्रेणी कि तरह किसी भी POP / POP -SP में अपना योगदान जमा कर सकते हैं।
  • खाता खोलने और संचालित करने के लिए पैन कार्ड की नकल जमा करना आवश्यक है |अलग से केवाईसी जमा करने कि कोई जरुरत नहीं है, पहले से प्रथम श्रेणी का खाता होना आवश्यक है |
  • बैंक खाते कि जानकारी देना आवश्यक है |
  • द्वितीय श्रेणी खाता खोलने के लिए क्या करें ।
  • प्रारंभिक पंजीकरण के समय
  • गैर-सरकारी क्षेत्र के ग्राहक संयुक्त आवेदन फॉर्म (UOS-एस 1) भर कर दोनों श्रेणी, प्रथम एवं द्वितीय के खाते एक साथ खोल सकते हैं | दोनों श्रेणियों का न्यूनतम योगदान (प्रथम श्रेणी के लिए ₹500 एवं द्वितीय श्रेणी के लिए ₹1000 आवेदन फॉर्म के साथ जमा करें |
  • मौजूदा एनपीएस ग्राहक जिसके पास प्रथम श्रेणी का खाता है
  • एनपीएस ग्राहक के रूप में, द्वितीय श्रेणी का आवेदन UOS- S10 फॉर्म न्यूनतम अंशदान राशि ₹1000 के साथ उपस्थिति सेवा प्रदाता (POP - SP) में जमा किया जा सकता है। द्वितीय श्रेणी के खाते में न्यूनतम अन्द्शदान राशि ₹1000 है
  • एनपीएस के ग्राहक - भारत के सभी नागरिकों को आवेदन पत्र उसी POP-SP में जमा करना है जहां उन्होंने प्रथम श्रेणी का खाता खुलवाया था | अन्य ग्राहक(सरकारी / स्वायत्त निकाय) किसी भी पॉप - SP में आवेदन जमा कर सकते हैं | POP -SP की सूची और उनके संपर्क विवरण सीआरए की वेबसाइट से प्राप्त किये जा सकते हैं |
  • एक नया ग्राहक जो एनपीएस से जुड़ना चाहता हो, वह एक साथ अपने प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी के खाते खोल सकता है | उसको ऐसा करने के लिए एक संयुक्त UOS -S1 फॉर्म भरना पड़ेगा (सीएऍफ़)
  • यह फॉर्म हमारी वेबसाइट से डाउनलोड किये जा सकते हैं |
  • द्वितीय श्रेणी खाते में योगदान ।
  • आपको वित्तीय वर्ष में न्यूनतम एक योगदान करना है | वित्तीय वर्ष में न्यूनतम योगदान ₹250 होना चाहिए | जब तक आपका प्रथम श्रेणी का खाता सक्रिय है, तब तक आप द्वितीय श्रेणी खाते में योगदान कर सकते हैं |

 

  • एनपीएस कि मुख्य विशेषताओं में से एक भूगोल और विभागों भर में "प्रान" पोर्टेबिलिटी है । ग्राहक ' |एक विभाग से दूसरे विभाग, केंद्रीय सरकार से कार्पोरेट छेत्र , एक कॉर्पोरेट से दूसरे कॉर्पोरेट अपने "प्रान को स्थान्तरित कर सकता है | इसको अंतर विभागीय स्थानांतरण के रूप में जाना जाता है |
  • जो ग्राहक एक विभाग से दूसरे में "प्रान" स्थनांतरित करना चाहता है , उसे विधिवत भरे आईएसएस -1 फार्म को नोडल कार्यालय / POP -SP में जमा करना चाहिए |ग्राहक के लक्ष्य क्षेत्र के अंतर्गत संचित यूनिट बेंचकर पुनर्निवेश कर दिया जायेगा | ग्राहक उसकी भौगोलिक स्थिति और रोजगार की स्थिति से परे , जब तक एनपीएस में हैं , एक ही "प्रान" के साथ जारी रख सकते हैं।
  • खातों पर रोक लगना |
  • पीएफआरडीए द्वारा जारी किए गए दस्तावेजों के अनुसार, एक ग्राहक के प्रथम श्रेणी के खाते में एक वित्तीय वर्ष में ₹6,000 की न्यूनतम राशि का योगदान करना आवश्यक है। द्वितीय श्रेणी के लिए, वित्तीय वर्ष के अंत में खाते की न्यूनतम शेष राशि 2,000 होनी चाहिए। इसके अलावा, एक ग्राहक को दोनों खातों में एक वित्तीय वर्ष में कम से कम एक योगदान करने की आवश्यकता है।
  • जो भी "प्रान", 'भारत के सभी नागरिकों ' और कॉर्पोरेट सेक्टर दोनों में, इन न्यूनतम योगदान मापदंडों को पूरा नहीं करते, ऐसे खातों को जाम करने का प्रावधान है । यह प्रक्रिया पिछले वित्तीय वर्ष (ओं) में पंजीकृत एवं सक्रिय "प्रान" पर विचार करेगी। उदाहरण के लिए, वित्तीय वर्ष 2011-2012 की खाता जाम करने कि प्रक्रिया के लिए , 31 मार्च 2011 को या उससे पहले के "प्रान" और वित्तीय वर्ष 2011-12 के दौरान ऊपर उल्लेख किये गए योगदान कि कसौटी पर खरे नहीं उतरते उन्हें जाम कर दिया जायेगा | खाते को वापस शुरू करने के लिए ग्राहक को विधिवत रूप से भरा अनुरोध पत्र (अनुबंध-UOSS10A) प्रस्तुत करने की जरूरत है। इसके साथ न्यूनतम राशि (दंड राशि सहित) POP -SP को जमा करी जा सकती है | न्यूनतम राशि एवं दंड राशि कि जानकारी सम्बंधित POP – SP से प्राप्त की जा सकती है |

 

 

 

 

अपना पैसा कैसे निकालें

निहित मानदंड

लाभ

उम्र के 60 वर्ष से पहले

आईआरडीए से विनियमित किसी भी जीवन बीमा कंपनी से एक जीवन वार्षिकी की खरीद के लिए पेंशन धन का कम से कम 80% निवेश करने की आवश्यकता होगी। पेंशन धन के शेष 20% को एक मुश्त राशि के रूप में वापस लिया जा सकता है।

60 वर्ष से 70 वर्ष कि आयु के बीच

पैनल में शामिल वार्षिकी सेवा प्रदाता (ASP) में से किसी से वार्षिकी की खरीद के लिए पेंशन धन का कम से कम 40% निवेश करने की आवश्यकता होगी। पेंशन धन की बाकी राशि एक मुश्त के रूप में आप वापस ले सकते हैं

एक मुश्त राशि वापसी को 70 वर्ष की आयु तक के लिए स्थगित किया जा सकता है, जबकि वार्षिकी योजना का चयन तीन वर्ष से टाल दिया जा सकता है।

किसी भी कारण से हुई मौत

इस तरह कि दुर्भाग्यपूर्ण घटना में , विकल्प के रूप में नामांकित व्यक्ति को एक मुश्त राशि के रूप में एनपीएस पेंशन धन का 100% प्राप्त करने का विकल्प होगा |अगर नामांकित व्यक्ति एनपीएस के साथ जारी रखना चाहता है तो वह व्यक्तिगत रूप से केवाईसी प्रक्रिया का पालन करने के बाद एनपीएस की सदस्यता ग्रहण कर सकता है |

कर लाभ समय-समय पर यथा संशोधित आयकर अधिनियम 1961 के अनुसार उपलब्ध होंगे ।

 

कम लागत पर लाभ उठाएं

एनपीएस भारतीय नागरिकों को उनकी सेवानिवृत्ति योजना के लिए कम लागत के विकल्प प्रदान करता है। अपने धन के प्रबंधन के लिए (प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियों के आधार पर) .0009% * शुल्क, एनपीएस के पेंशन फंड शायद दुनिया के सबसे कम लागत वाले पैसे प्रबंधकों में आते हैं |

एनपीएस के तहत शुल्क निम्नलिखित हैं:

मध्यस्थ

कटौती मद

सेवा प्रभार *

कटौती की विधि

सीआरए

पीआरए खोलने का शुल्क

₹50

यूनिट्स को निरस्त करके

वार्षिक पीआरए रखरखाव शुल्क

₹190

प्रति प्रभार शुल्क

₹4

POP(प्रत्येक ग्राहक के लिए अधिकतम अनुमेय प्रभार)

प्रारंभिक ग्राहक पंजीकरण

₹100

अग्रिम जमा

प्रारंभिक योगदान अपलोड

प्रारंभिक योगदान राशि का 0.25%, न्यूनतम ₹20 और अधिकतम ₹25,000

योगदान से जुड़ा कोई भी बाद का लेन-देन अपलोड

योगदान राशि का 0.25%, न्यूनतम ₹20 और अधिकतम ₹25,000

योगदान से जुड़ा कोई भी बाद का लेन-देन

₹20

पीएफएम शुल्क

निवेश प्रबंधन शुल्क 3

0.01% तक प्रति वर्ष

एनएवी कटौती के माध्यम से

ट्रस्टी बैंक

प्रति लेन देन

शून्य

एनए

 

प्रति गैर भारतीय रिज़र्व बैंक लेन देन

₹15

एनएवी कटौती के माध्यम से

अभिरक्षक (परिसंपत्ति के बाजार मूल्य पर) 5

परिसंपत्ति सेवा शुल्क

0.0075% प्रति वर्ष इलेक्ट्रॉनिक खंड और 0.05% प्रति वर्ष भौतिक खंड के लिए

एनएवी कटौती के माध्यम से

* सेवा कर और अन्य शुल्क कानून के अनुसार लगाया जाएगा

1 ये शामिल हैं

  • ग्राहक विवरण में बदलाव ।
  • निवेश योजना / फंड मैनेजर में बदलाव
  • निकासी अनुरोध का प्रसंस्करण
  • ग्राहक के स्थानांतरण के अनुरोध का प्रसंस्करण
  • मुद्रित खाता विवरण जारी करना
  • पीएफआरडीए द्वारा निर्धारित कोई भी अन्य ग्राहक सेवा
  • POP को ग्राहकों के साथ उपर्लिखित शुल्कों के बारे में बातचीत करने का विकल्प है, लेकिन निर्धारित प्रभारी के ढांचे के भीतर। यह संरचना निजी (गैर सरकारी) के क्षेत्र में दोनों, व्यक्तियों और कंपनियों पर लागू होता है
  • 3 निवेश प्रबंधन शुल्क में अभिरक्षा शुल्क छोड़कर दलाली, लेन-देन लागत के रूप में सभी लेन-देन से संबंधित शुल्क समावेशित है। निवेश प्रबंधन शुल्क की पेंशन निधि द्वारा प्रबंधित औसत मासिक परिसंपत्तियों पर गणना की जाती है।
  • 4 अन्य सभी शुल्कों के विपरीत, ट्रस्टी बैंक प्रभार सीधे ग्राहक से नहीं वसूले जाते हैं । लेन-देन में नामित पीएफएम को धन का हस्तांतरण करने के लिए भौतिक साधन के इलेक्ट्रॉनिक निर्देश / प्राप्ति की रसीद से शुरू की गतिविधियों की पूरी श्रृंखला को दर्शाता है। बहिर्वाह तरफ, लाभार्थी के खाते में जमा करने के लिए अग्रणी सभी गतिविधियों इसमें शामिल होंगी ।
  • 5 डीमैट / रीमैट , शेयरों और सेबी के शुल्क अतिरिक्त हैं।

 

आप निम्नलिखित विकल्पों के माध्यम से शिकायत दर्ज कर सकते हैं

  • कॉल सेंटर / इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पांस सिस्टम (आईवीआर),आप टोल फ्री टेलीफोन नंबर 1-800-222080 पर सीआरए कॉल सेंटर से संपर्क करके शिकायत दर्ज कर सकते हैं। सेवानिवृत्ति खाता खोलने के समय आपको एनपीएस से आवंटित टी-पिन के माध्यम से अपने आप को प्रमाणित करना होगा। अपनी शिकायत के सफल पंजीकरण पर, एक टोकन नंबर भविष्य में संदर्भ के लिए ग्राहक सेवा प्रतिनिधि द्वारा आवंटित की जाएगी।
  • वेब आधारित इंटरफेस

आप वेबसाइट www.npscra.nsdl.co.in पर स्थायी सेवानिवृत्ति खाता खोलने के समय में आप को आवंटित आई -पिन के उपयोग के साथ शिकायत दर्ज कर सकते हैं। सफल पंजीकरण पर, एक टोकन नंबर भविष्य में संदर्भ के लिए स्क्रीन पर प्रदर्शित किया जाएगा।

  • भौतिक रूप में

आप एक निर्धारित प्रारूप में शिकायत POP -SP को प्रस्तुत कर सकते हैं, जो सीआरए केंद्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली (CGMS) को अग्रेषित कर देंगे । आपको प्रमाणीकरण के साधन के रूप में अपने "प्रान" का उल्लेख करना होगा। POP -SP को फार्म जमा करने पर आपको एक पावती रसीद मिलेगी। टोकन नंबर आपको ईमेल कर दिया जायेगा (अगर ईमेल आईडी का उल्लेख किया गया है) । आप पावती रसीद प्रस्तुत कर के POP -SP से टोकन नंबर प्राप्त कर सकते हैं।

 

शिकायत की स्थिति की जांच करने के लिए

आप टोकन नंबर के उल्लेख द्वारा सीआरए वेबसाइट www.npscra.nsdl.co.in पर या कॉल सेंटर के माध्यम से शिकायत की स्थिति की जांच कर सकते हैं। जारी किए गए मूल टोकन नंबर निर्दिष्ट करके ऊपर उल्लेखित मोड में से किसी एक के माध्यम से एक अनुस्मारक भेज सकते हैं।

यदि आपको 30 दिनों के भीतर कोई भी प्रतिक्रिया प्राप्त नहीं होती या सीआरए के जवाब से संतुष्ट नहीं हैं, तो आप पीएफआरडीए के जीआरसी (शिकायत निवारण सेल) में आवेदन कर सकते हैं।

जीआरसी में सीधे ग्राहकों से प्राप्त शिकायत पर ही अमल किया जायेगा ।जीआरसी अधिवक्ताओं, एजेंटों या तीसरे पक्ष द्वारा ग्राहकों की ओर से लिखी किसी शिकायत विचार नहीं करेगा, जब तक वह औपचारिक रूप से अधिकृत न किये गए हों |